Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

यहाँ खस्ताहाल सड़कें दे रही हादसों को न्योता

आखिर परिवहन विभाग व प्रशासनिक अमला आखिर कर क्या रहा है

Story Highlights
  • सड़कों को सुधारने व ओवर लोडिंग को नियंत्रित करने के लिए और प्रयास किये जायेंगे: जिलाधिकारी
  • जनपद के पीडा-पाबो, खैडी-क्यार्की, रतूडा-पोखरी, ओडली-नौला कलना, जसोली-कोट-घोलतिर, छेनागाड-उछोला, छेनागाड-बकशीर, कोलू बैण्ड-तडाग-उर्खोली, जैली-मरगांव, काण्डई-कमोल्डी-पीपली, गंगतल-डांगी-बैंजी, गुप्तकाशी-सल्या-तुलंगा मोटर मार्गों समेत कई मोटर मार्ग उबड-खाबड बने

रिपोर्ट: कुलदीप राणा/रुद्रप्रयाग

रुद्रप्रयाग के ग्रामीण क्षेत्रों की लाइफ लाइन कही जाने वाली सडकें रुद्रप्रयाग जनपद में बडे हादसों को न्यौता दे रही हैं। जिले का अधिकतर क्षेत्र ग्रामीण है और यहां आवागमन का साधन टूटी-फूटी कच्ची सडकें ही हैं मगर सडकों की हालत इस कदर है कि यहां सवारियां जान को हथेली पर लेकर सफर करने को मजबूर है। यहां वाहन चालकों को महज मनमाना किराया वसूलने से मतलब है सडक मार्ग से जुडे विभागों को सिर्फ पहाडियों को खोदकर वाहन चलाने लायक रास्ते बानाने से।

जनपद के पीडा-पाबो, खैडी-क्यार्की, रतूडा-पोखरी, ओडली-नौला कलना, जसोली-कोट-घोलतिर, छेनागाड-उछोला, छेनागाड-बकशीर, कोलू बैण्ड-तडाग-उर्खोली, जैली-मरगांव, काण्डई-कमोल्डी-पीपली, गंगतल-डांगी-बैंजी, गुप्तकाशी-सल्या-तुलंगा मोटर मार्गों समेत कई मोटर मार्ग उबड-खाबड बने हुए हैं और यहां वाहन चालक भी ओवर लोडिंग कर सवारियों को ढो रहे हैं। परिवहन विभाग महज राष्ट्रीय राजमार्गों पर दौडता दिख रहा है, तो प्रशासन है कि बडे हादसों के दौरान ही इन मार्गों पर दिखाई देता है। मार्गों पर बेतरतीब तरीके से कटिंगें की गई हैं बडे-बडे गड्डे सवारियों की रुह तक कंपा दे रहे हैं। ओवर लोडिंग तो इस कदर है कि सवारियों को ही पता नहीं है कि वो गाडी में बैठकर सफर कर रहे हैं या फिर कुछ और, उस पर भी वाहन चालकों का मनमाना किराया। बडी बात यह है कि ग्रामीण मोटर मार्गों पर स्थानीय लोगों के ही वाहन चलते हैं और सवारियां भी वाहन चालकों के खिलाफ कुछ भी बोलने को तैयार नहीं रहती हैं।

हम भी इन सडकों से गुजरे तो पता लगा कि हर किसी को किसी तरह बस अपने गन्तब्य तक पहुंचने के लिए वाहन में थोडी जगह मिल जाय, यही काफी है। मगर बडी बात यह है कि आखिर परिवहन विभाग व प्रशासनिक अमला आखिर कर क्या रहा है क्यूं नहीं स्वयं जाकर इन अब्यवस्थाओं को देखता है और कायदे कानूनों की धज्जियां उडाने वाले के विरुद्व कार्यवाहियां क्यूं नहीं करता।

इस संबंध में जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा कि जो मासिक बैठक होती है, उसमे ओवरलोडिंग को लेकर समय-समय पर परिवहन विभाग, पुलिस विभाग सहित अन्य सभी विभागीय अधिकारीयों को निर्देशित किया जाता रहा है। साथ ही सडक के खस्ताहाल को लेकर कार्यदायी संस्थाओं को भी सड़कों को ठीक करने के लिए निर्देशित किया जाता है। उन्होंने कहा सड़कों को सुधारने व ओवर लोडिंग को नियंत्रित करने के लिए और प्रयास किये जायेंगे।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button