Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

बहुगुणा की डिनर डिप्लोमेसी से सियासी हलचल, टिहरी लोकसभा से ठोकेंगे ताल!

पूर्व सीएम बहुगुणा ने निकाय चुनाव के विजयी प्रत्याशियों के सम्मान में डिनर पार्टी की आयोजित

देहरादून: लोकसभा चुनाव से ऐन पहले बीजेपी नेता व पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा भी सक्रिय हो गये हैं. बहुगुणा भी अपने साथियों को एक जुट करने लग गये हैं. इसके लिए उन्होंने देहरादून में एक निजी होटल में निकाय चुनाव के विजयी प्रत्याशियों के सम्मान में डिनर पार्टी का आयोजन किया. जिसके बाद बीजेपी के साथ राज्य की राजनीति भी गर्मा गई है और इसके अलग-अलग सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं.
 
इस डिनर में सीएम त्रिवेन्द्र रावत, कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, सुबोध उनियाल, स्पीकर प्रेमचन्द्र अग्रवाल, विधायक गणेश जोशी, मुन्ना सिंह चौहान, सहदेव पुंडीर, हरबंस कपूर, उमेश शर्मा काऊ, कुंवर प्रणव चैम्पियन, देहरादून नगर निगम के मेयर सुनील उनिलाय गामा और ऋषिकेश नगर निगम की मेयर अनीता मंमगाई मौजूद रहीं. इसके अलावा बहुगुणा खेमे के नेताओं का भी जमावडा रहा.
 
दरअसल विजय बहुगुणा 2017 के बाद से ज्यादातर समय उनका दिल्ली में बीता. उत्तराखंड में राज्यसभा की सीट जब खाली हुई तो उन्हें बीजेपी से राज्यसभा भेजने की चर्चाएं जोर पकड़ने लगीं. लेकिन अंत में बाजी अनिल बलूनी के हाथ लगी. इससे पहले भी हरीश रावत की सरकार में उन्होंने राज्य सभा की दावेदारी की थी, लेकिन कांग्रेस ने मनोरमा शर्मा डोबरियाल को राज्य सभा भेज दिया. हाल में सम्पन्न हुए निकाय चुनाव में भी विजय बहुगुणा ज्यादा सक्रिय नहीं दिखे. अब डिनर पार्टी से बहुगुणा ने इशारों ही इशारों में बीजेपी हाईकमान को बता दिया है कि वह टिहरी लोकसभा के प्रबल दावेदार हैं. डिनर पार्टी आयोजित करने के सवाल पर पूर्व सीएम विजय बहुगुणा ने बताया कि बीजेपी के मेयर व पार्षद जीत कर आए हैं. उनके सम्मान के लिए यह पार्टी आयोजित की गई है. साथ ही उन्होंने कहा कि वे बीजेपी में डेढ़ साल पहले ही शामिल हुए हैं. इस वजह से वो कई कॉर्पोर्टर्स को नहीं जानते हैं. इससे उन लोगों से भी मुलाकात हों जायेगी. इसके साथ ही पूर्व सीएम विजय बहुगुणा ने टिकट की स्थिति पर बताया कि अभी चुनाव मई में है और मार्च में टिकट फाइनल कर दिया जाएगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा-‘घर (भाजपा) को बड़ा कर रहा हूं, जल्द कुछ नए लोग आएंगे।’ उन्होंने कहा कि चुनाव के मौके पर माइग्रेशन होता है। ये एक तरह का ट्रेंड भी है। जो पार्टी मजबूत व बड़ी होती है, उसकी तरफ लोग रुख करते हैं। यह पूछने पर कौन-कौन नेता भाजपा में आ रहे हैं, इसे वह मुस्कुराकर टाल गए।
 
डिनर डिप्लोमेसी से सियासत में हलचल मची तो सभी की निगाहें इस बात पर थी कि क्या टिहरी सांसद भी इस डिनर पार्टी में पहुचेंगी. पूर्व सीएम बहुगुणा ने कहा कि उन्होंने टिहरी सांसद तो न्यौता भेजा था अब वो नहीं आईं तो क्या किया जा सकता है. हालांकि टिहरी सांसद देहरादून में ही थीं. इस डिनर पार्टी में कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत भी नहीं दिखे. इसके अलावा कई नेताओं की गैरमौजूदगी कई सवाल खड़े कर रही थीं. 
 
बता दें विजय बहुगुणा 2007 में टिहरी लोकसभा सीट से सांसद निर्वाचित हुए. उसके बाद 2009 में दोबारा टिहरी सीट से सासंद चुने गये. 2012 में कांग्रेस पार्टी ने उन्हें प्रदेश का मुख्यमंत्री नियुक्त किया और 2014 में उन्हें हटाकर कांग्रेस ने हरीश रावत को प्रदेश की कमान सौंप दी, लेकिन 2016 में कांग्रेस पार्टी में हुए बगावत के वे सूत्रधार रहे और उन्हीं की अगुवाई में कांग्रेस के 11 विधायकों ने बगावत कर दी थी.
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button