Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

बजट में आम आदमी को राहत देने का प्रयास, किसी ने सराहा, किसी ने बताया चुनावी बजट

आखिरी बजट में चुनाव की महक

मसूरी। केंद्र सरकार के आखिरी बजट में चुनाव की महक साफ नजर आ रही है। हालाँकि बजट में आम आदमी को राहत देने का पूरा प्रयास किया गया है। इसमें जहां केंद्र सरकार ने आम आदमी को साधने की कोशिश की, वहीं भविष्य की झलक भी दिखाई दे रही है। बजट में किसान, श्रमिकों, आम आदमी, सहित व्यवसायियों को राहत दी गई है। वहीं अंतरिम बजट पर अलग-अलग प्रतिक्रिया सामने आई है, किसी ने इसकी सराहना की है, तो किसी ने इसे चुनावी बजट बताया।

आर्थिक मामलों के जानकार शूरवीर सिंह भंडारी ने कहा कि यह चुनाव से पूर्व का लोक लुभावन बजट है। सरकार ने आगामी चुनाव को देखकर यह बजट जारी किया, लेकिन इसमें एक खास बात यह भी है कि सरकार ने इस बजट के माध्यम से अपनी संकल्पबद्धता को बडे़ ही चतुराई से प्रस्तुत किया है। उन्होंने कहा कि सरकार की सवर्णों को दस प्रतिशत आरक्षण, आयकर में पांच लाख की छूट से मध्यम वर्ग को मरहम लगाने का कार्य किया है। सरकार ने कर माफी की जगह स्वामीनाथन की रिपोर्ट के आधार पर एमएसपी बढाने की बात की है, जो किसानों के हित में है। यह दांव तीन राज्यों की सरकार के कर्जमाफी पर भारी पडे़गा। वहीं कहा कि इसमें जो कमी है, वह यह है कि सरकार ने कार्पोरेट सेक्टर को अधिक रियायत दी है, जबकि सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र में अधिक सुविधा दी जानी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि पूरे देश के हर घर को बिजली, सेना का बजट बढाना, हर नागरिक को मकान उपलब्ध कराना सराहरीय कदम है। वहीं उन्होंने अटल आयुष्मान योजना पर प्रश्नचिन्ह लगाते हुए कहा कि यह योजना भले ही सरकार ने जनता के हित के लिए बनायी हो, पर सरकारी अस्पतालों में न चिकित्सक है, न आधुनिक उपकरण हैं, ऐसे में फिलहाल यही लगता है कि सरकार ने यह योजना पांच सितारा अस्पतालों को लाभ पहुंचाने के लिए बनाई है।

बजट को शहर कांग्रेस अध्यक्ष सतीश ढौडियाल ने जनता को भ्रमित करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने जिस तरह हर गरीब के खाते में पंद्रह लाख की घोषणा की थी, जो कि आज तक नहीं आये, यह बजट भी इसी तरह है।

भाजपा मसूरी मंडल के अध्यक्ष मोहन पेटवाल ने कहा कि देश की आाजादी के बाद केंद्र सरकार का यह बजट बहुत संतुलित व सराहनीय है जिसमें हर वर्ग का विशेष ध्यान रखा गया है। चाहे वह कृषि, सुरक्षा, उद्योग, श्रमिक, सभी के हितों को ध्यान में रखा गया है। इसकी जितनी सराहना की जाय कम है। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार लगातार देश हित व जनता के हितों के लिए अनेक योजनाएं धरातल पर ला चुकी है, उज्जवला योजना हो या हर गरीब को आवास देने की बात हो ,सभी के स्वास्थ्य की बात हो, हर घर को बिजली से रौशन करने की बात हो, सभी योजनाएं जनहित की हैं और सरकार इसे धरातल पर ला चुकी है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button