Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

काठन नदी के घाट पर एल एन टी कर्मियों ने की प्री वर्किंग

काठन नदी के घाट पर एल एन टी कर्मियों ने की प्री वर्किंग

बड़ामलहरा

पांच प्रमुख तत्वों में जल का अहम स्थान है। जल विन प्राणियों का जीवन संभव नहीं है। नदियों का आस्तित्व और जल की गुणबत्ता वनाऐं रखनें, समय समय पर साथ-सफाई होना आवश्यक है। एलएनटी कंपनी कर्मियों ने सेंधपा की काठन नदी की सफाई, घाट का गहरीकरण और समतलीकरण करते हुऐ ग्रामीणों को नदी को आस्तित्व में बनाऐ रखनें की प्रेरणा दी।
नजदीकी ग्राम सेंधपा स्थित काठन नदी में रविवार को एलएनटी कंपनी कर्मियों ने नदी की गंदगी को बाहर निकालकर प्रदूषण मुक्त किया। साथ ही, नदी में जेसीबी मशीन चलाकर घाट व नदी का गहरीकरण किया। कंपनी के 2 दर्जन से अधिक कर्मियों ने ग्रामीणों की मदद से नदी को संवारनें की दिशा में एक सकारात्मक पहल शुरु की। देवी देवताओं की प्रतिमाओं के विसर्जन, पर गांव का कचरा कूडा, पुरानें व उपयोगहीन कपडे, पॉलीथिन नदी में जाने से जल प्रदूषित हो रहा है। प्रदूषण से दिनोंदिन स्थिति विकराल हो रही है ऐसे में नदियों को संवारना आवश्यक है। सुबह 9 बजे से तीन घंटे तक चले सफाई अभियान के दौरान करीब 5 सौ वर्ग मीटर हिस्सा से गंदगी हटाई गई। कंपनी के प्रोजेक्ट मैंनेजर देवनाथ मंडल ने बताया कि, विश्व जल दिवस के अवसर पर एक दिवसीय अभियान चलाकर नदी के जल को उपयोग लायक बनाने का प्रयास किया है। उन्होनें बताया कि, कंपनी द्वारा देश की 2 सौ जल स्रोतों की साफ-सफाई की जा रही है। आगामी 22 मार्च को समूचे विश्व में जल दिवस मनाया जाऐगा लेकिन, कलर फैस्टिवल होली होने की वजह से रिवर में प्री वर्किंग की गई है।

120 गांव में पहुंचेगा, बान सुजारा का जल

छतरपुर-टीकमगढ जिले की सीमावर्ती क्षेत्र में सरकार ने करोडों रुपये खर्च करके धसान नदी का पानी रोका है। 107 करोड रुपये की लागत से टीकमगढ जिला स्थित जतारा,पलेरा, बल्देवगढ और खरगापुर तहसील के 830 किमी क्षेत्र में नहर बनाकर खेतों तक पानी पहुंचाया जा रहा है, वहीं 187 करोड रुपये की जलावर्धन योजना तैयार कर, वान- सुजारा बांध से बडामलहरा बिखं. के 120 गांव में पीने का पानी पहुंचाने की महत्वाकांक्षी योजना पर कार्य चल रहा है। ग्रामीण जल प्रदाय योजना के तहत कार्य कर रही एलएनटी कंपनी कर्मियों ने बताया कि, वान-सुजारा परियोजना से टीकमगढ और छतरपुर दोनों जिले के लोग लाभांवित हो रहे है। जल्दी की बिखं. क्षेत्र के 120 गांव में वानसुजारा का पानी पहुंचेगा। गांव में पानी टंकियों का निर्माण, पाईप लाईन विछने का कार्य, नल फिटिंग और फिलटर प्लांट निर्माण कार्य अंतिम चरण में है उन्होनें बताया कि, अब तक 80 प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया गया है। दावा है कि, आगामी छ: महीने के अंदर शेष कार्य पूर्ण कर लिया जाऐगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button