Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

बकस्वाहा।सिद्ध क्षेत्र पड़रिया धाम में मनाया जायेगा रंगपंचमी महोत्सव

राजू दुबे

बकस्वाहा।सिद्ध क्षेत्र पड़रिया धाम में मनाया जायेगा रंगपंचमी महोत्सव

राजू दुबे

बुंदेलखंड के जिला छतरपुर के बकस्वाह
ब्लाँक मुख्यालय से नो किलीमीटर स्थित सिद्ध क्षेत्र पड़रिया धाम में बृन्दावन से पधारे महंत श्री किशोर दास जू महाराज के सानिध्य में मनाया जायेगा रंगपंचमी महोत्सव। ज्ञात हो प्रतिवर्ष रंगपंचमी महोत्सव मे व्रन्दावन के रुप में तब्दील हो जाता है बाँके बिहारी मंदिर
आसपास के समूचे क्षेत्र से आने वाले भक्त और श्रद्धालु जन होली खेलने और भगवान बांके बिहारी के दर्शन करने ओर महाराज के आशीर्वाद हेतु आते पड़रिया धाम भक्तो में खुसी की एक अनोखी लहर है कि व्रन्दावन की तरह होली खेलने का मौका पड़रिया धाम में भी मिलेगा।
पड़रिया में रंगपंचमी का महत्व
बुंदेलखंड के अलावा पूरे देश से लोग रंग पंचमी मानने यहां आते है यहां मंदिर में व्रन्दावन से फूल गुलाल मंगाई जाती है यहां लोग आने के बाद भगवान के रंग में रंग जाते है

पड़रिया धाम मंदिर का अपना एक इतिहास है कहाँ जाता है कि पड़रिया धाम में बांके विहारी मंदिर है जो करीब 300 साल पुराना बताया जाता है पड़रिया धाम पहले पन्ना रियासत में आता था और बुन्देलखं केसरी महराज छत्रसाल यहाँ बाँके बिहारी के दर्शन करने आते थे समय के साथ जिला बन्ने के बाद पड़रिया धाम जिला छतरपुर में आने लगा प्रचीन मंदिर व्रन्दावन ठाकुर श्री गोरेलाल जी की शाखा से जुड़ा हुआ है पड़रिया धाम में राजाओं के समय से रंग पंचमी महोत्सव मनाया जाता है यहां आम लोगो से लेकर खास लोगो तक सभी यहां आते है समय पर महराज श्री किशोर दास जी व्रन्दावन से पड़रिया आते है
इसलिए यहाँ रंगपंचमी का एक अपना अलग महत्व है

क्यों मनाते हैं हम रंगपंचमी, जानिए पौराणिक महत्व…

होली ब्रह्मांड का एक तेजोत्सव है। तेजोत्सव से, अर्थात विविध तेजोत्सव तरंगों के भ्रमण से ब्रह्मांड में अनेक रंग आवश्यकता के अनुसार साकार होते हैं तथा संबंधित घटक के कार्य के लिए पूरक व पोषक वातावरण की निर्मित करते हैं।

त्रेतायुग के प्रारंभ में श्री विष्णु ने धूलि वंदन किया, इसका अर्थ यह है कि ‘उस युग में श्री विष्णु ने अलग-अलग तेजोमय रंगों से अवतार कार्य का आरंभ किया। त्रेता युग में अवतार निर्मित होने पर उसे तेजोमय, अर्थात विविध रंगों की सहायता से दर्शन रूप में वर्णित किया गया है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है रंगपंचमी से संबंधित पौराणिक जानकारी।

गुलाल : आज्ञाचक्र पर गुलाल लगाना, पिंड बीज के शिव को शक्ति तत्व का योग देने का प्रतीक है। गुलाल से प्रक्षेपित पृथ्वी व आप तत्व की तरंगों के कारण देह की सात्विक तरंगों को ग्रहण करने में देह की क्षमता बढ़ती है। आज्ञा चक्र से ग्रहण होने वाला शक्तिरूपी चैतन्य संपूर्ण देह में संक्रमित होता है। इससे वायुमंडल में भ्रमण करने वाली चैतन्य तरंगें ग्रहण करने की क्षमता बढ़ती है। इस विधि द्वारा जीव चैतन्य के स्तर पर अधिक संस्कारक्षम बनता है।

वायुमंडल : नारियल के माध्यम से वायुमंडल के कष्टदायक स्पंदनों को खींचकर, उसके बाद उसे होली के पांचवें दिन (रंगपंचमी) की अग्नि में डाला जाता है। इस कारण नारियल में संक्रमित हुए कष्टदायक स्पंदन होली की तेजोमय शक्ति की सहायता से नष्ट होते हैं व वायुमंडल की शुद्धि होती है।

रंगपंचमी : रंगपंचमी के दिन कई स्थानों पर एक-दूसरे के शरीर पर रंग व गुलाल डालकर पर्व मनाया जाता है। होली के दिन प्रदीप्त हुई अग्नि को पांच दिन निरंतर जलाने से वायुमंडल के रज-तम कणों का विघटन होता है। ब्रह्मांड में संबंधित देवता का रंग रूपी सगुण तत्व कार्यानुमेय संबंधित विभिन्न स्तरों पर अवतरित होता है व उसका आनंद एक प्रकार से रंग उड़ा कर मनाया जाता है। इस दिन खेली जाने वाली रंगपंचमी, विजयोत्सव का अर्थात रज-तम के विघटन से अनिष्ट शक्तियों के उच्चाटन व कार्य की समाप्ति का प्रतीक है।

रंग कणों से आकर्षित होते हैं दिव्य तत्व : इस दिन वायुमंडल में उड़ाए जाने वाले विभिन्न रंगों के रंग कणों की ओर विभिन्न देवताओं के तत्व आकर्षित होते हैं। ब्रह्मांड में कार्यरत सकारात्मक तरंगों के संयोग से होकर जीव को देवता के स्पर्श की अनुभूति देकर देवता के तत्व का लाभ मिलता है।

रंगपंचमी– 2 : चैत्र कृष्ण पंचमी को खेली जाने वाली रंगपंचमी आह्वान करने के लिए होती है। यह सगुण आराधना का भाग है। ब्रह्मांड के तेजोमय सगुण रंगों का पंचम स्रोत सक्रिय कर देवता के विभिन्न तत्वों की अनुभूति लेकर उन रंगों की ओर आकृष्ट हुए देवता के तत्व के स्पर्श की अनुभूति लेना, रंगपंचमी का उद्देश्य है।

पंचम स्रोत अर्थात पंच तत्वों की सहायता से जीव के भाव अनुसार विभिन्न स्तरों पर ब्रह्मांड में प्रकट होने वाले देवता का कार्यरत स्रोत। रंगपंचमी देवता के तारक कार्य का प्रतीक है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button