Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

पड़रिया धाम में मनाया गया रंगपंचमी महोत्सव

टीम mpcgexpress

बकस्वाहा।सिद्ध क्षेत्र पड़रिया धाम में मनाया गया रंगपंचमी महोत्सव

कार्यक्रम में पहुँचे जिले के एस पी तिलक सींग
रंगपंचमी महोत्सव को देखने जिले के एस पी तिलक सींग पहुँचे ओर पहले मंदिर में पहुँच के बांके बिहारी के दर्शन किये फिर सुरक्षा व्यवस्था का जायगा लिया

बुंदेलखंड के जिला छतरपुर के बकस्वाहा
ब्लाँक मुख्यालय से नो किलीमीटर स्थित सिद्ध क्षेत्र पड़रिया धाम में बृन्दावन से पधारे महंत श्री किशोर दास जू महाराज के सानिध्य में मनाया गया रंगपंचमी महोत्सव। ज्ञात हो प्रतिवर्ष रंगपंचमी महोत्सव मे व्रन्दावन के रुप में तब्दील हो जाता है बाँके बिहारी मंदिर।
आसपास के समूचे क्षेत्र से आने वाले भक्त और श्रद्धालु जन होली खेलने और भगवान बांके बिहारी के दर्शन करने ओर महाराज के आशीर्वाद हेतु आते है व्रन्दावन की तरह होली खेली जाती है
पड़रिया में रंगपंचमी का महत्व
बुंदेलखंड के अलावा पूरे देश से लोग रंग पंचमी मानने यहां है यहां मंदिर में व्रन्दावन से फूल गुलाल मंगाई जाती है यहां लोग व्रन्दावन की तरहा होली खेलते है

पड़रिया धाम मंदिर का अपना एक इतिहास है कहाँ जाता है कि पड़रिया धाम में बांके विहारी मंदिर है जो करीब 300 साल पुराना बताया जाता है पड़रिया धाम पहले पन्ना रियासत में आता था और बुन्देलखं केसरी महराज छत्रसाल यहाँ बाँके बिहारी के दर्शन करने आते थे समय के साथ जिला बन्ने के बाद पड़रिया धाम जिला छतरपुर में आने लगा प्रचीन मंदिर व्रन्दावन ठाकुर श्री गोरेलाल जी की शाखा से जुड़ा हुआ है पड़रिया धाम में राजाओं के समय से रंग पंचमी महोत्सव मनाया जाता है यहां आम लोगो से लेकर खास लोगो तक सभी यहां आते है समय पर महराज श्री किशोर दास जी व्रन्दावन से पड़रिया आते है
इसलिए यहाँ रंगपंचमी का एक अपना अलग महत्व है

 

 

श्रद्धालुओं ने जमकर खेली होली

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button