Select your Language: हिन्दी
BOLLYWOOD

रिया और शौविक चक्रवर्ती की न्यायिक हिरासत बढाई गयी, 20 अक्टूबर तक जेल में ही रहेंगे

मुंबई: सुशांत सिंह राजपूत मामले में ड्रग्स के में रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को 14 दिन के लिए और जेल में रहना पड़ेगा. बॉम्बे हाई कोर्ट ने आज रिया और शौविक समेत सभी 6 आरोपियों की जमानत याचिका खारिज कर दी.

इस मामले में अब अगली सुनवाई बीस अक्टूबर को होगी. फिलहाल रिया और शौविक मुंबई की भायकला जेल में बंद है. रिया और शौविक के अलावा सैमुअल मिरांडा, दिपेश सावंत, बासित परिहार, जैद विलात्रा इस मामले में आरोपी हैं.

इससे पहले रिया समेत 6 लोगों की जमानत याचिका पर 24 सितंबर को रिया की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई थी. जिसका फैसला 29 सितंबर तक सुरक्षित रख लिया गया था. इसके बाद इस दिन हुई सुनवाई में एनसीबी की दलीलों के आधार पर 6 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत बढ़ा दी थी. इसके बाद एक बार रिया समेत 6 लोगों की जमानत याचिका पर सुनवाई होनी थी, जिसे बॉम्बे हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया.

रिया और उसके भाई पर है ड्रग्स सिंडिकेट चलाने का आरोप

रिया और उसके भाई शोविक चक्रवर्ती पर ड्रग सिंडिकेट चलाने का आरोप है. सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सीबीआई जांच के दौरान ड्रग्स एंगल भी सामने आया था जिसके बाद एनसीबी की टीम ने भी अपनी पैनल तफ्तीश शुरू की थी.

एनसीबी ने जांच में पाया कि रिया चक्रवर्ती और उसका भाई मुंबई के कई बड़े ड्रग्स पैडलर के संपर्क में थे और यह दोनों सैमुअल मिरांडा के जरिए इन पैडलर से ड्रग्स खरीदकर आगे सुशांत को देते थे. जिसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने रिया चक्रवर्ती उसके भाई शोभित और सैमुअल मिरांडा सहित 20 लोगों को गिरफ्तार किया था.

निचली अदालत ने खारिज की थी याचिका
इससे पहले निचली अदालत में बेल याचिका खारिज होने के बाद रिया, शोभित और मिरांडा सहित 5 लोगों ने बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. इस मामले पर पांचों आरोपियों की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने अपना आदेश सुरक्षित रख लिया था मुंबई हाई कोर्ट में रिया और उसके भाई की याचिका पर सुनवाई 29 सितंबर को हुई थी.

अदालत में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने रिया और शोविक चक्रवर्ती की जमानत का विरोध करते हुए कहा था की यह दोनों ड्रग सिंडिकेट चलाते थे. रिया ड्रग्स की इल्लीगल ट्रैफिकिंग के साथ फाइनेंसिंग का काम भी करती थी.

Show More

Related Articles

Back to top button