Select your Language: हिन्दी
UNCATEGORIZED

फिल्म मेकर आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हुआ दर्ज, सरकार पर लगाया था ‘जैविक हथियार’ प्रयोग करने का आरोप

मुंबई: फिल्म मेकर आयशा सुल्ताना एक एक्टिविस्ट भी हैं. आयशा पर मलयालम टेलीविजन के एक शो में केंद्र शासित राज्य लक्षद्वीप में कोरोना को लेकर झूठे तथ्य रखने का आरोप है. चैनल पर बहस के दौरान आयशा ने कहा कि केंद्र सरकार ने लक्षद्वीप में कोरोना फैलाने के लिए जैविक हथियारों का इस्तेमाल किया. इस तरह की टिप्पणी करने पर आयशा के खिलाफ राजद्रोह का केस दर्ज किया गया है.

आयशा सुल्ताना के खिलाफ बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल खादर ने कवरत्ती थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी. देश जब बुरी तरह से कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चपेट में जूझ रहा है और सरकार और स्वयंसेवी संस्थाएं इससे निपटने में जुटे हुए हैं. ऐसे हालात में इस तरह की टिप्पणी नाराजगी पैदा करने वाली है. अब्दुल की शिकायत पर आयशा को राजद्रोह का आरोपी पाया गया और गुरुवार यानि 10 जून को धारा 124 A (राजद्रोह) और 153 B (हेटस्पीच) के तहत मामला दर्ज किया गया है. ध

बीजेपी नेता अब्दुल खादर ने आयशा के बयान को राष्ट्रविरोधी बताते हुए केंद्र सरकार की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने केरल में भी आयशा के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है. लक्षद्वीप में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने आयशा के खिलाफ प्रदर्शन भी किया. लक्षद्वीप की रहने वाली आयशा सुल्ताना ने मलयालम फिल्म मेकर्स के साथ काम किया है. आयशा एक एक्ट्रेस और मॉडल भी हैं.

बता दें कि लक्षद्वीप में पिछले कुछ दिनों से सियासी बवाल मचा हुआ है. विपक्षी दलों का आरोप है कि वहां के प्रशासक प्रफुल्ल पटेल के नए कानून से लक्षद्वीप की संस्कृति को खतरा है. इसीलिए विपक्षी पार्टियां केंद्र सरकार को निशाना बना रही हैं. प्रफुल्ल पटेल को हटाने की मांग की जा रही है. आयशा सुल्ताना भी इस मुहिम का हिस्सा हैं. आयशा सोशल मीडिया पर इससे संबंधित पोस्ट आए दिन शेयर कर रही हैं.

Show More

Related Articles

Back to top button